मंगलवार, 29 अप्रैल 2014

वोट दो तुम

सियासत के सियासी तरीकों को देखो
बेईमानी   मक्कारी के छियासी तरकीबों को देखो
 देखो लोकतँत्र के सरपरस्तों को देखो
इंसानी महफ़िल मे फैली शैतानी फितरत को देखो

बिकते खरीदते इरादों को देखो
उसूलों को सूली पर चढ़ाते दल-बदलुओं को देखो
बहुत खूब देखोचुनावी तमाशे को देखो
खुली आँखों से   खुले दिल से देखो

करो फैसला  बता दो इन्हे तुमनही लाश तुम
 दागियों-दगाबाजों के नहीं साथ हो तुम
ना ही हिन्दु -मुसलमां के नाम पे फिसलते हो तुम
ना ही किसी के इशारे पर चलते हो तुम

जो सच लगे उसी का साथ दो तुम
लोकतंत्र को मजबूती का अंजाम दो तुम
कर लो इरादा  बदलना वतन को है
अपने हक का इस बार वोट दो तुम


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें